एक पत्र किसानो के नाम

प्रिय भ्राता किसान,

आपके चरणो मे सादर चरण स्पर्श भाभी को प्रणाम और बच्चो को प्यार |
आशा करता हू आप सकुशल होंगे | मे कई दिनो घरेलू ,व्यावसायिक व सामाजिक कार्यो मे व्यस्त होने के कारण आपको खत नही लिख पाया | आपका फेसबुक पर भी ढूँढा लेकिन नही मिला और आपके व्हातसपप नंबर नही होने के कारण इस आधुनिक युग मे भी खत लिख रहा हू| कई बार गाँवो मे भी जाना होता है और आपको खेतो मे लाहहती फ़सलो या खेतो के बीच मे देखता भी हू लेकिन आपके कार्य मे व्यवधान न डालने के उद्देश्य से मे आपको आवाज़ नही लगाता हू

आपके द्वारा भेजा गया दूध ,दही च्छाछ ,सब्जिया , दाले ,अनाज समय समय पर मिलता रहा आशा करता हू उसकी सही कीमत आप तक पहुचती रही होगी काफ़ी समय से आपसे प्रत्यक्ष रूप से मिलने की अभिलाषा रहती है लेकिन समयाभाव के कारण आपसे मिलने मे असमर्थ रहा हू | मेने यह पत्र आपको धन्यवाद करने के लिए लिखा है आप इतनी मेहनत करके व कष्ट उठा कर ये सब चीज़े मेरे लिए करते हो और मे आप का सही ढंग से आपका आप प्रत्यक्ष रुप से सारी चीज़े मुझ तक पहुचा दिया करे तो आपसे मिलना भी हो जाए

आप सभी के स्वास्थ्य की मंगल कामना करते हुए में आशा करता हु आप लोगो का जीवन खुशियों से भर जाये और आप हमेशा स्वस्थ्य रहे

आपका अनुज
स्वतंत्र

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *